हनीप्रीत ने कबूला अपना गुनाह |

0

डेरा सच्चा सौदा राम राहीम की राजदार हनीप्रीत इंसा की पुलिस रिमांड आज खत्म हो रही है। 10 अक्टूबर को कोर्ट ने उसकी पुलिस रिमांड को तीन दिन और बढ़ा दिया था। आज हनीप्रीत को कोर्ट में पेश किया जाएगा। डेरा सच्चा सौदा की चेयरपर्सन विपसना इंसा शुक्रवार को पंचकूला पुलिस स्टेशन पहुंची और पुलिस उससे भी पूछताछ करेगी। कोर्ट की ओर से तीन दिन की रिमांड अवधि बढ़ाए जाने के बाद पुलिस ने हनीप्रीत से कई राज जानने की कोशिश की। पंचकूला दंगों की जांच कर रही एसआइटी हनीप्रीत को लेकर बुधवार को पहले पंजाब के भठिंडा गई और फिर उसे राजस्‍थान ले कर पहुंची। पुलिस दिन में बठिंडा के गांव जंगीराना पहुंची और वहां जांच के बाद राजस्‍थान गई। सूत्रों की मानें तो अपनी जुबान न खोलने वाली हनीप्रीत ने पुलिस के सामने कई राज खोले हैं और उसी के आधार पर पुलिस उसे विभिन्‍न स्‍थानों पर ले जा रही है। हालांकि पुलिस अभी तक उसका लैपटॉप और गायब मोबाइल फोन तलाश नहीं कर पाई है। आपको बता दें कि डेरा सच्चा सौदा के मुखिया गुरमीत राम रहीम को रेप के आरोपों में 20 साल की सजा सुनाई है।हनीप्रीत ने माना है कि 25 अगस्त को अगर राम रहीम को कोर्ट से रिहा कर दिया जाएगा तो पंचकूला में सत्संग होगा।

हनीप्रीत को संरक्षण देने के मामले में जांच के लिए हरियाणा पुलिस बठिंडा के जंगीराणा गांव में हनीप्रीत कौर व सुखदीप कौर को लेकर घूमती रही। पुलिस ने बठिंडा पुलिस के मोस्टवांटेड व देशद्रोह के आरोपी महिन्दरपाल सिंह बिट्टू को गिरफ्तार किया व बाद में दुष्कर्म के दोषी गुरमीत सिंह के ड्राइवर इकबाल सिंह व उसकी पत्नी सुखदीप कौर की बुआ के घर में सर्च किया। कोटकपूरा निवासी बिट्टू पंचकूला से हनीप्रीत को गाड़ी में बिठाकर विभिन्न स्थानों में घूमा व बाद में बठिंडा में आकर छिप गया।

पंचकूला पुलिस की एसआईटी के मुताबिक हनीप्रीत ने कबूला है कि 17 अगस्त को सिरसा डेरे में हुई मीटिंग की अध्यक्षता उसी ने की थी।
इसी मीटिंग में ही पंचकूला में दंगों की साजिश की गई थी और सारी प्लानिंग कोर्ट के फैसले पर टिकी थी।
मैप पर मार्किंग करने, ब्लैकमनी से फंडिंग कराने, देश के खिलाफ वीडियो वायरल करने के साथ ही कई जुर्म कबूले हैं।
डेरा समर्थकों को पहले ही पंचकूला पहुंचने को कहा गया और सेक्टर-23 में तैयारी रखने को कहा गया।
उपद्रवियों की एंट्री और बाहर निकलने का प्लान हनीप्रीत के लैपटॉप पर तैयार हुआ।
इसके लिए पंचकूला के मैप पर मार्किंग की गई।
तय हुआ कि अहम रोल निभाने वाले वॉट्सएप कॉलिंग के जरिये कॉन्टैक्ट में रहेंगे, नॉर्मल कॉलिंग का प्रयोग नहीं करेंगे।
दंगे की फंडिंग के लिए ब्लैकमनी प्रयोग हुई और डेरा प्रमुख के पीए राकेश ने भी कहा था कि दंगे के लिए ब्लैकमनी का प्रयोग हुआ।
इसे व्हाइट करने के लिए हनीप्रीत ने फर्जी दस्तावेज बनाने को कहा था।
करीब पांच करोड़ रुपए हनीप्रीत ने चमकौर इंसां के हाथों खुद भिजवाए।

Share.

About Author

Leave A Reply