महिला विश्व कप: पहली बार फाइनल में जगह बनाने उतरेगी भारतीय टीम

0

अभी तक हर मैच में एकतरफा प्रदर्शन करने वाली भारतीय महिला क्रिकेट टीम के सामने टी-20 विश्व कप के सेमीफाइनल में उस इंग्लैंड की चुनौती होगी, जिसने एक साल पहले भारत को वनडे विश्व कप का खिताब जीतने से रोका था। भारत अगर जीतता है तो वह पहली बार विश्व कप के फाइनल में जगह बनाएगा। इस विश्व कप में हालांकि इंग्लैंड का प्रदर्शन ज्यादा खास नहीं रहा है। खासकर भारत के प्रदर्शन की तुलना में। भारत ने अपने ग्रुप-बी के सभी चारों मैच जीतते हुए सेमीफाइनल में प्रवेश किया है तो वहीं इंग्लैंड को चार में से दो में जीत मिली और एक में हार जबकि एक मैच हो नहीं सका था।

भारत ने 2010 के बाद से पहली बार टी-20 विश्व कप सेमीफाइनल में जगह बनाई है। अब हरमनप्रीत कौर की कप्तानी वाली भारतीय टीम की कोशिश इस मौके को भुनाते हुए पहली बार फाइनल में प्रवेश कर खिताब अपने नाम करने की होगी। भारत ने एक भी बार टी-20 विश्व कप का फाइनल नहीं खेला है और टीम इस बार यह इतिहास रचने के लिए प्रतिबद्ध दिख रही है। वहीं इंग्लैंड 2009 में आयोजित विश्व कप के पहले संस्करण का खिताब अपने नाम कर चुकी है जबकि 2012 और 2014 में दो बार उसे आस्ट्रेलिया ने खिताब जीतने से रोक दिया था।

भारतीय टीम के प्रदर्शन को देखते हुए लग रहा है कि उसका विजेता बनना संभव भी है। हालांकि बल्लेबाजी में भारत को थोड़ी चिंता है क्योंकि ऊपरी क्रम के अलावा अभी तक चारों मैच में मध्यक्रम और निचला क्रम विफल रहा है। मिताली राज, हरमनप्रीत कौर और स्मृति मंधाना के अलावा भारत की कोई और बल्लेबाज अपने रंग में नहीं दिखी। जेम्मिाह रोड्रिगेज ने इन तीनों के अलावा पहले मैच में अच्छी पारी खेली थी, लेकिन उसके बाद वह लय भटक गई। अहम मैच से पहले भारत को अपने निचले क्रम और मध्यक्रम को मजबूत करने की जरूरत है।

वहीं अगर गेंदबाजी की बात की जाए तो भारत की स्पिन गेंदबाजों ने अभी तक हर टीम की नाक में दम किया है। पूनम यादव, राधा यादव, दीप्ती शर्मा, अनुजा पाटिल ने हर मैच में अपनी फिरकी का दम दिखाया है। भारत की स्पिन आक्रमण इस विश्व कप में टीम का अहम कड़ी जिसके दम पर भारत विश्व विजेता बनने का ख्वाब देख सकता है। वहीं अगर इंग्लैंड की बात की जाए तो कप्तान हीथर नाइट का बल्ला शांत रहना टीम की सबसे बड़ी चिंता है। वहीं टैमी बेयुमोंट ने भी बड़ी पारी खेलने में असफल रही हैं। इन दोनों से टीम प्रबंधन को उम्मीद होगी भारत के खिलाफ एक अहम मैच में इनके बल्ले की जंग खत्म हो।

हरफनमौला खिलाड़ी नताली स्क्राइबर ने गेंद से तो अच्छा योगदान दिया है, लेकिन उनका बल्ला नहीं चला है। टीम की तीन अहम बल्लेबाजों का ऑउट ऑफ फॉर्म होना इंग्लैंड के लिए चिंता का सबब है। गेंदबाजी में अन्या श्रूबसोले बीते दो मैच में शानदार प्रदर्शन किया है। उन्होंने दक्षिण अफ्रीका और वेस्टइंडीज के खिलाफ तीन-तीन विकेट अपने नाम किए थे। इंग्लैंड की गेंदबाजी इनके साथ बेयुमोंट पर काफी निर्भर करेगी।

Share.

About Author

Leave A Reply