लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर बड़ा हादसा |

0

करीब साल भर पहले लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर लड़ाकू विमान उतारने के साथ तत्कालीन सीएम अखिलेश यादव ने इसकी शुरुआत की थी। साल भर बाद फिर इस पर लड़ाकू विमान उतारे गए, सड़क पर विमान उतारना लोगों के लिए किसी अजूबे से कम नहीं था लेकिन एक्सप्रेस-वे जिस तरह खून से लाल हो रही है इसकी डिजाइन पर भी सवाल खड़े होने लगे हैं। कन्नौज क्षेत्र में शनिवार देर रात कार में सवार एक पूरे परिवार और दो सगे भाइयों यानी छह लोगों की मौत हुई। इससे पहले भी इस क्षेत्र में कई बड़े हादसे हो चुके हैं। पुलिस रिकार्ड देखें तो साल भऱ के अंदर 63 बड़े हादसे एक्सप्रेस-वे पर हुए। इन हादसों में 70 लोगों की जानें गईं और 360 लोग गंभीर रूप से घायल हुए। यह आंकड़ा सिर्फ कन्नौज क्षेत्र का है, पूरे एक्सप्रेस-वे की बात करें तो आकड़ा डेढ़ सौ से अधिक मौतों का है। नवम्बर 2016 में चालू हुए एक्सप्रेस-वे अब तक हादसों को एक्सप्रेस-वे साबित हुआ है। कुछ निश्चित जगहों पर हादसे होने के कारण लोग एक्सप्रेस-वे के निर्माण में खामियां बताने लगे। कन्नौज के ठठिया, तालग्राम और सौरिख थाना क्षेत्र में सर्वाधिक हादसे हुए हैं। सभी हादसे चार पहिया वाहन से हुए, जिसमें से अधिकांश घटनाएं वाहनों के डिवाइडर से टकराने पर हुईं।

Share.

About Author

Leave A Reply