राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री से पूछे 9 सवाल ।

0

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से सवाल पूछा है। इस बार उनका सवाल किसानों की समस्या को लेकर है। राहुल ने नौवीं बार ट्वीट किया है और यहीं पर उन्होंने पीएम मोदी से सवाल पूछा है। गौरतलब है कि राहुल ने गुजरात चुनावों से पहले ट्विटर पर ‘22 सालों का हिसाब, गुजरात मांगे जवाब’ इस टाइटल के साथ सवालों की सीरीज शुरू की है। इसी सीरीज में राहुल ने पीएम मोदी से नौंवा सवाल पूछा है और गुजरात में बीजेपी के 22 साल के शासन का हिसाब मांगा है।
गुरुवार को राहुल ने ट्विटर पर पीएम मोदी से सवाल पूछा है और एक बार फिर यह सवाल शायरी के अंदाज में है। राहुल ने ट्वीट में लिखा है, ‘न कर्ज की माफी, न दिया फसल का सही दाम, मिली नहीं फसल बीमा राशि, न हुआ ट्यूबवेल का इंतजाम, खेती पर गब्बर सिंह की मार, छीनी जमीन, अन्नदाता को किया बेकार, पीएम साहब बताएं, खेडुत के साथ क्यों इतना सौतेला व्यवहार?’ गुजरात विधानसभा चुनावों से पहले राहुल अब तक पीएम मोदी से चुनावी वादों, गुजरात पर कर्ज, निजी बिजली कंपनियों को फायदा, शिक्षा, महिला सुरक्षा और रोजगार जैसे मुद्दों पर जवाब मांग चुके हैं।

1-घर देने में 45 साल लगेंगे
राहुल ने पूछा था- ‘गुजरात के हालात पर प्रधानमंत्री जी से पहला सवालः 2012 में वादा किया कि 50 लाख नए घर देंगे। 5 साल में बनाए 4.72 लाख घर। प्रधानमंत्री जी बताइए कि क्या ये वादा पूरा होने में 45 साल और लगेंगे?’

2-गुजराती पर 37,000 रुपए का कर्ज क्यों?
राहुल ने ट्वीट पर लिखा था, ‘1995 में गुजरात पर कर्ज- 9,183 करोड़, 2017 में गुजरात पर कर्ज- 2,41,000 करोड़, यानी हर गुजराती पर 37,000 रुपए का कर्ज। आपके वित्तीय कुप्रबन्धन और पब्लिसिटी की सजा गुजरात की जनता क्यों चुकाए?’

3-बिजली कंपनियों को क्यों पहुंचाया फायदा
राहुल गाधी ने पूछा-‘2002-16 के बीच 62,549 करोड़ की बिजली खरीदकर 4 निजी कंपनियों की जेब क्यों भरी? सरकारी बिजली कारखानों की क्षमता 62 फीसदी घटाई, लेकिन निजी कंपनी से 3रुपए/ यूनिट की बिजली 24 रुपए तक क्यों खरीदी? जनता की कमाई क्यों लुटाई?’

4-सरकारी शिक्षा पर खर्च में गुजरात पीछे क्यों?
राहुल ने पूछा ‘सरकारी स्कूल-कॉलेज की कीमत पर किया शिक्षा का व्यापार। महंगी फीस से हर छात्र पर मार पड़ी। New India का सपना कैसे होगा साकार? सरकारी शिक्षा पर खर्च में गुजरात देश में 26वें स्थान पर क्यों? युवाओं ने क्या गलती की है?’

5-महिलाओं की शिक्षा, सुरक्षा और स्वास्थ्य पर
राहुल गाधी ने महिलाओं की शिक्षा, सुरक्षा और स्वास्थ्य का मुद्दा उठाया। ‘न सुरक्षा, न शिक्षा, न पोषण,महिलाओं को मिला तो सिर्फ शोषण, आंगनवाड़ी वर्कर और आशा, सबको दी बस निराशा। गुजरात की बहनों से किया सिर्फ वादा, पूरा करने का कभी नहीं था इरादा।’

6-लोगों को कम क्यों मिल रही है कम सैलरी
राहुल गाधी ने सोमवार को छठा सवाल किया और पूछा, ‘एक तरफ युवा बेरोजगार, दूसरी तरफ लाखों फिक्स पगार और कांट्रैक्ट कर्मचारी बेजार। 7वें वेतन आयोग में 18,000 रुपए मासिक होने के बावजूद फिक्स और कांट्रैक्ट पगार 5500 रुपए और 10,000 रुपए क्यों?’

7-‘बाकी कुछ बचा तो महंगाई मार गई’
राहुल गांधी ने सातवें सवाल में महंगाई का मुद्दा उठाया और लिखा, ‘जनता को जुमलों की बेवफाई मार गई, नोटबंदी की लुटाई मार गई, GST सारी कमाई मार गई, बाकी कुछ बचा तो महंगाई मार गई।’

8-स्वास्थ्य का मुद्दा
आठवें सवाल में राहुल गांधी ने स्वास्थ्य का मुद्दा उठाया. उन्होंने आंकड़ों का हवाला देते हुए लिखा, ‘39% बच्चे कुपोषण से बेजार, हर 1000 में 33 नवजात मौत के शिकार…चिकित्सा के बढ़ते हुए भाव, डॉक्टरों का घोर अभाव। भुज में ‘मित्र’ को 99 साल के लिए दिया सरकारी अस्पताल, क्या यही है आपके स्वास्थ्य प्रबंध का कमाल?’
राहुल गांधी इन सवालों के जरिए पिछले गुजरात विधानसभा चुनाव में बीजेपी की ओर से किए गए चुनावी वादों की याद दिला रहे हैं।

9-किसानों से सौतेला व्यवहार क्यों?
न की कर्ज़ माफ़ी
न दिया फसल का सही दाम
मिली नहीं फसल बीमा राशि
न हुआ ट्यूबवेल का इंतजाम

खेती पर गब्बर सिंह की मार
छीनी जमीन, अन्नदाता को किया बेकार

PM साहब बतायें, खेडुत के साथ क्यों इतना सौतेला व्यवहार?

Share.

About Author

Leave A Reply