TRAI के नए नियम, अनचाहे कॉल्स और मेसेज से मिलेगी छुट्टी

0

अनचाहे कॉल्स और मेसेज की परेशानी से अब छुटकारा मिलने वाला है। टेलिकॉम रेग्युलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (ट्राई) ने गुरुवार को अनचाहे करने वाली कॉल्स और स्पैम को लेकर नए नियमों की घोषणा की, जिसके तहत टेलिमार्केटिंग मेसेज भेजने के लिए यूजर की सहमति को अनिवार्य कर दिया गया है।

रेग्युलेटर ने टेलिकॉम ऑपेरटर्स को यह भी सुनिश्चित करने को कहा है कि कमर्शल कम्युनिकेशन केवल रजिस्टर्ड सेंडर्स के द्वारा हो। ट्राई ने बयान में कहा, ‘रेग्युलेशन में पूरी तरह बदलाव जरूरी हो गया था। नए नियम का उद्देश्य यूजर्स को स्पैम से हो रही परेशानी को प्रभावी रूप से रोकना है।’

नए नियमों के तहत मेसेज सेंडर्स, हेडर्स (अलग-अलग तरीके के मेसेज को अलग करने वाले) के रजिस्ट्रेशन और सबसे बढ़कर सब्सक्राइबर्स की सहमति को अनिवार्य किया गया है। ट्राई ने कहा कि कुछ टेली मार्केटिंग कंपनियां इस आधार पर ग्राहकों की मंजूरी का दावा करती हैं, जो उन्होंने चोरी छिपे तरीके से हासिल की होती हैं। नए नियमों के तहत ये व्यवस्था होगी कि उपभोक्ताओं का अपनी मंजूरी पर पूरा नियंत्रण होगा। उनके पास पहले दी गई मंजूरी को वापस लेने का भी विकल्प होगा।

ट्राई ने कहा, ‘नया नियम सब्सक्राइबर्स को सहमति पर पूर्ण नियंत्रण देता है और पहले दी गई सहमति को वापस भी ले सकता है। सब्सक्राइबर्स की सहमति रजिस्ट्रेशन से मौजूदा नियमों का दुरुपयोग रुक सकता है।’ नियमों के उल्लंघन पर जुर्माने का प्रावधान किया गया है। उल्लंघन की श्रेणी के मुताबिक, 1,000 रुपये से लेकर 50 लाख रुपये तक का जुर्मना लगाया जा सकता है।

Share.

About Author

Leave A Reply