यूपी : रेकॉर्ड 40 महिलाएं बनीं विधायक

0

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी को मिले प्रचंड बहुमत के अलावा रेकॉर्ड संख्या में महिला विधायक भी चुनी गई हैं। 2012 के पिछले चुनावों में जहां 36 महिला विधायक जीतीं थीं तो वहीं इस बार 40 महिलाएं विधानसभा में पहुंचेंगी।
इस बार के विधानसभा में जीत का परचम लहराने वाली महिलाओं में सर्वाधिक 34 बीजेपी से हैं। इसके अलावा बीएसपी और कांग्रेस की दो-दो तथा समाजवादी पार्टी और अपना दल (सोनेलाल) से एक-एक महिलाएं विधायक चुनी गई हैं। 2012 में 19 महिलाएं एसपी के टिकट पर जीती थीं। जबकि बीजेपी से 6, कांग्रेस और बीएसपी से 1-1 महिला विधायक चुनी गईं थीं। 40 विधायकों के जीतने के बावजूद 403 सदस्यों वाले विधानसभा में महिलाओं के लिए तय 33 प्रतिशत के कोटे से यह आंकड़ा बहुत कम है। असोसिएशन फॉर डेमोक्रैटिक रिफॉर्म्स की कोर कमिटी के सदस्य संजय राय ने कहा, ‘चुनावों के दौरान पितृसत्तात्मकता हावी रही। प्रत्याशी के तौर पर महिला नेताओं को वरीयता नहीं दी गई, इसलिए सदन में महिलाओं की संख्या 8-10 प्रतिशत ही है।’
वहीं विशेषज्ञों ने बताया कि समस्या टिकट वितरण में छिपी हुई है, जिसे आंकड़ों में भी देखा जा सकता है। महिलाओं को टिकट देने में सभी दलों का औसत 8 प्रतिशत बैठता है। एसपी और बीएसपी ने महिलाओं को टिकट देने में सबसे अधिक दरियादिली दिखाई है। इन्होंने 8 प्रतिशत महिलाओं को टिकट दिया। वहीं कांग्रेस ने 4 प्रतिशत जबकि बीजेपी ने 3 प्रतिशत महिला प्रत्याशियों को टिकट दिया। यूपी में कुल 445 महिलाएं चुनावी रेस में थीं, जिनमे से 40 ने जीत दर्ज की।
कोटेशन
असोसिएशन फॉर डेमोक्रैटिक रिफॉर्म्स की कोर कमिटी के सदस्य संजय राय ने कहा, ‘चुनावों के दौरान पितृसत्तात्मकता हावी रही। प्रत्याशी के तौर पर महिला नेताओं को वरीयता नहीं दी गई, इसलिए सदन में महिलाओं की संख्या 8-10 प्रतिशत ही है।’

Share.

About Author

Comments are closed.