बिहार में शराब के बाद अब खैनी पर लगेगा प्रतिबंध

0

बिहार सरकार शराब पर प्रतिबंध लगाने के बाद अब राज्य में खैनी पर भी प्रतिबन्ध लगाना चाहती है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार तंबाकू नियंत्रण के क्षेत्र में राज्य सरकार को तकनीकी सहयोग प्रदान कर रही संस्था सोशियो इकोनोमिक एंड एजुकेशनल सोसाइटी (सीड्स) ने खैनी पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है।

एक रिपोर्ट के अनुसार सीड्स के कार्यपालक निदेशक दीपक मिश्रा का कहना है कि राज्य सरकार को खैनी को खाद्य सामग्री से बाहर लाना चाहिए और इसे फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड एक्ट-2006 के तहत प्रतिबंधित करना चाहिए। रिपोर्ट के अनुसार बिहार में 25.6 प्रतिशत लोग धुआंरहित तंबाकू का सेवन करते हैं, जिसमे से ज्यादातर खैनी खाने वाले हैं।

इस मामले में राज्य सरकार ने केंद्र को एक पत्र लिखा है। खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण द्वारा खाद्य उत्पाद के रूप में अधिसूचित किए जाने के बाद सरकार के पास स्वास्थ्य आधार पर खैनी पर प्रतिबंध लगाने की शक्ति होगी। बिहार सरकार के आंकड़ों के अनुसार राज्य में हर पांचवां आदमी खैनी का इस्‍तेमाल करता है। हालांकि बिहार में शराबबंदी को लेकर वहां के सीएम नीतीश कुमार कितने भी दावे करें पर उनके दावों को माफिया लगातार गलत साबित कर रहे हैं। बिहार में अवैध तरीके से शराब बेची जा रही है। कुछ दिन पहले बिहार के मुजफ्फरपुर जिले के कटरा में एक ऐसा ही हैरान करने वाला मामला सामने आया।

बिहार के कटरा थाना क्षेत्र में माफियाओं ने शराब छिपाने के लिए तालाब को चुना। पुलिस ने जब तालाब में जाल डाला तो मछलियों की जगह शराब की बोतलें फंसने लगी। पुलिस ने तालाब से करीब 1,771 शराब की बोतलें बरामद की हैं। तालाब में अवैध रूप से बेचने के लिए इन बोतलों में 560 लीटर शराब रखी गई थी। पुलिस ने भले ही कटरा थाना क्षेत्र से शराब की बोतलें बरामद की हैं पर वो इस मामले में अब तक किसी की भी गिरफ्तारी नहीं कर पाई है।

Share.

About Author

Leave A Reply