लोकसभा चुनाव 2019 के लिए महागठबंधन के साथ नहीं AAP

0

गुरूवार को राज्यसभा उपसभापति के चुनावों के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल की पार्टी ‘आप’ के सांसदों ने वोटिंग में हिस्सा नहीं लिया। इसी के साथ लोकसभा चुनाव 2019 में मोदी के खिलाफ तैयार विपक्ष के महागठबंधन को बड़ा झटका लगा है। 2019 चुनावों में सबके साथ मिलकर मोदी लहर को हराने के लिए तैयार महागठबंधन की रणनीति से अरविन्द केजरीवाल ने दूरी बना ली है।

केजरीवाल ने गठबंधन में शामिल होने की बात नकारते हुए कहा कि इस महागठबंधन की पार्टियों ने विकास में कोई योगदान नहीं दिया है। इसी के साथ उन्होंने आरोप लगाया कि दिल्ली के लिए किये जाने वाले विकास कार्यों में अवरोध लगाया जा रहा है। हरियाणा में एक कार्यक्रम के दौरान केजरीवाल ने कहा, ”गठबंधन की राजनीति मेरे लिए मायने नहीं रखती। मेरे लिए राजनीति जनता और उसका विकास है। जो हमने दिल्ली में पिछले तीन साल में किया है, इन पार्टियों ने 70 साल में उसका थोड़ा सा काम भी करके नहीं दिखाया.”

गुरूवार को राज्यसभा उपसभापति के चुनाव का आप सांसदों ने बहिष्कार किया। इस मामले में आप के नेता संजय सिंह ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष प्रधानमन्त्री मोदी से गले मिल सकते हैं, लेकिन अगर उन्हें समर्थन चाहिए तो केजरीवाल जी को एक फ़ोन क्यों नहीं कर सकते हैं।

इधर केजरीवाल ने बीजेपी पर धर्म के नाम पर दिखावा करने का आरोप लगाया। उन्होने कहा कि बीजेपी धर्म के नाम पर वोटबैंक की राजनीती में लिप्त है उसे लोगों की भावनाओं से कोई लेना देना नहीं है। हरियाणा पहुंचे केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में हरियाणा से ज्यादा विकास हुआ है।

उन्होंने ट्वीट में लिखा, “नीतीश कुमार जी ने अरविंद केजरीवाल जी से फ़ोन पर बात करके अपने प्रत्याशी के लिये समर्थन मांगा, बीजेपी समर्थित जेडीयू प्रत्याशी को वोट देना सम्भव नहीं, राहुल गांधी जी को अपनी पार्टी के लिये वोट नही चाहिये तो ‘आप’ के पास बहिष्कार के सिवा कोई रास्ता नही.”

Share.

About Author

Leave A Reply