दिव्यांग बच्चों का हुनर देख हर कोई रह गया दंग

0

पैरों से दिव्यांग अंजू यादव की रंगोली, दोनों पैरों से दिव्यांग अमर की चित्रकारी और दौड़ में दिव्यांग कन्हैया का उत्साह। देखने के बाद सभी को यह लगा कि ऊपर वाले ने इन्हें कुछ खास हुनर देकर भेजा है। एक के बाद एक मेडल जब बच्चों के गले में पहनाए गए तो वहां मौजूद उनके परिजनों और शिक्षकों की आंखे नम हो गई।

दिव्यांग जन सशक्तीकरण दिवस पर जिला बेसिक शिक्षाधिकारी कार्यालय परिसर में दिव्यांग बच्चों के लिए विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ डीआईओएस एनएल गुप्ता व बीएसए विनोद कुमार मिश्र ने किया। विभिन्न प्रतियोगिताओं में जिले भर से आए दिव्यांग बच्चों ने अपने हुनर का प्रदर्शन किया। सुलेख प्रतियोगिता में लाडली प्रथम, संग्रामपुर की पिंकी द्वितीय व अंजू यादव तृतीय रही। चित्रकला में रिती मिश्रा प्रथम, अमर द्वितीय, मुस्कान व कंचन तृतीय रही। रंगोली प्रतियोगिता में अंजू यादव प्रथम, शालिनी द्वितीय, बबिता तृतीय स्थान पर रही। बालक वर्ग की 50 मीटर दौड़ में भोला प्रथम, प्रमोद द्वितीय व दिशांत तृतीय रहे। 50 मीटर दौड़ उच्च प्राथमिक वर्ग में श्याम बाबू प्रथम, अनंत द्वितीय, अवकेश तृतीय रहे। 50 मीटर दौड़ बालिका वर्ग में संध्या प्रथम, खुशी पटवा,लाडली तृतीय स्थान पर रही। 50 मीटर दौड़ बालक वर्ग में राहुल प्रथम, प्रकाश द्वितीय, शिवांस तृतीय रहे। छूकर पहचानो प्रतियोगिता बेहद रोचक रही।

इसमें अरुण को प्रथम, अजय को द्वितीय, जबकि बालिका वर्ग में रोशनी को प्रथम, रेशमी को द्वितीय स्थान मिला। कुर्सी दौड़ बालक वर्ग में कन्हैया प्रथम, अरुण द्वितीय जबकि बालिका वर्ग में शिखा प्रथम, कंचन द्वितीय रही। बीएसए ने कहा कि ये बच्चे बेहद हुनरमंद हैं। हमें बस इनके हुनर को तराशने की जरूरत है।

Share.

About Author

Leave A Reply