आतंकियों के निशाने पर पुलिसकर्मी, दी जा रही धमकी नौकरी छोड़ो या मरो

0

घाटी में आतंकी एक बड़े हमले की फिराक में हैं। वे आए दिन सेना और पुलिसकर्मियों को अपना निशाना बना रहे हैं हालांकि भारतीय जवान भी जवाबी कार्रवाई देने से पीछे नहीं हट रहे हैं। इसी बीच आतंकी संगठन हिज़्बुल मुजाहिदीन ने एक आडियो क्लीप जारी किया है। जिसमें कश्मीरियों को धमकी दी गई है कि वह पुलिस की नौकरी छोड़ें या फिर मरने को तैयार हो जाएं। यही नहीं धमकी भरे पोस्टर कई गांवों में लगाए गए हैं।

हिज्बुल आतंकी रियाज नाइकू ने ऑडियो क्लिप में कहा कि जम्मू-कश्मीर पुलिस भारतीय सेना और अन्य सभी सुरक्षा बलों के साथ-साथ केंद्र सरकार में काम करने वाले उन सभी कश्मीरियों की हत्या कर देंगे जो अगले चार दिनों के अंदर इस्तीफा नहीं देते हैं। उसने कहा कि हिंदुस्तान की सरकार एक साजिश के तहत लोगों को एसपीओ बना रही है। कई विभागों में रिक्तियां हैं लेकिन पुलिस बल में ही भर्तियां हो रही हैं। नाइकू ने सभी एसपीओ से कहा कि वे उग्रवादियों की सूचना पुलिस को न दें और फौरन नौकरी छोड़ दें वरना नतीजे काफी बुरे होंगे।

धमकी देने वाले शख्स ने सुरक्षा बलों, खुफिया एजेंसियों और केंद्र सरकार की सर्विसेज में काम करने वाले कश्मीरियों से अपनी नौकरियां छोड़ने और अपने इस्तीफे का सबूत इंटरनेट पर अपलोड करने का भी निर्देश दिया है। उसने कहा कि हमें और दुनिया को दिखा दो कि तुम सभी ने अपनी नौकरी छोड़ दी और हमारी आजादी की लड़ाई में शामिल हो गए हो। नौकरी छोड़ने के लिए चार दिन का समय दिया गया है इसके बाद इस्तीफा मंजूर नहीं किया जाएगा।

आडियो में एसपीओ और घरों से काम करने वाले मुखबिरों को भी इस्तीफा देने और शांत रहने का हुक्म दिया है। उसने कहा है कि खुद को मत बेचो और सिर्फ 6,000 रुपये के लिए मत मरो। बता दें कि जम्मू-कश्मीर पुलिस (जेकेपी) के पास करीब 35,000 एसपीओ हैं जो पुलिस विभाग में नियमित नौकरी मिलने की आस लगाए हुए हैं जुलाई 2016 में हिज्बुल कमांडर बुरहान वानी के मारे जाने के बाद दो वर्षों में घाटी के करीब 9,000 युवा पुलिस में भर्ती हो चुके हैं।

Share.

About Author

Leave A Reply