पनामा लीक केस की जांच करेगी जेआईटी

0

गुरुवार का दिन पाकिस्तान के लिए बहुत ही अहम रहा। पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने बहुचर्चित और बहुप्रतीक्षित पनामा पेपर्स मामले पर अपना फैसला सुनाया। पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट की पांच सदस्यीय बेंच ने 3-2 से फैसला सुनाया है। अपने फैसले में पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट ने संयुक्त जांच टीम बनाने को कहा है। गौर करने वाली बात है कि 2 जज नवाज को अयोग्य ठहराने के पक्ष में थे। संयुक्त जांच टीम पैसा कतर भेजे जाने की जांच करेगी। कोर्ट ने कहा कि नवाज और उनके दोनों बेटों को जांच टीम के सामने पेश होना होगा।
आपको बता दें कि यह फैसला कहीं न कहीं पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के भविष्य पर भी असर डालेगा, क्योंकि पाकिस्तान के कई राजनैतिक दलों (तहरीक-ए-इंसाफ, जमात-ए-इस्लामी, आवामी मुस्लिम लीग व अन्य दलों) ने नवाज शरीफ के खिलाफ याचिका दायर की थी। आपको याद दिला दें कि पिछले साल अप्रैल में पनामा पेपर्स ने पाकिस्तान की राजनीति में भूचाल ला दिया था।
जाते-जाते बची नवाज की कुर्सी
पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट में पांच सदस्सीय बेंच ने शुक्रवार को नवाज शरीफ के राजनैतिक सफर का फैसला किया। नवाज की कुर्सी पर लटकी तलवार इस बार महज एक वोट से रह गई। आपको बता दें कि 3 जजों ने संयुक्त जांच टीम बनाने के पक्ष में अपना फैसला सुनाया था, जबकि 2 जज नवाज को अयोग्य ठहराने के पक्ष में थे। अगर पीठ में एक और जज का फैसला नवाज के खिलाफ होता, तो यूसुफ रजा गिलानी की तरह ही उन्हें भी कुर्सी छोड़नी पड़ती।
फिर से होगी जांच, पेश होंगे नवाज और उनके बेटे
पनामा लीक केस में आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले में कहा गया है कि मामले की फिर से जांच होगी। जिसके लिए संयुक्त जांच टीम (जेआईटी) गठित करने को कहा गया है। जेआईटी पैसा कतर भेजे जाने की जांच करेगी। कोर्ट के फैसले में जिक्र है कि नवाज और उनके दोनों बेटों को जांच टीम के सामने पेश होना होगा।

Share.

About Author

Comments are closed.