बुलंदशहर में हुई हिंसा दुर्भाग्यपूर्ण,इसे राजनीतिक रंग देना उचित नहीं:अमित शाह

0

राजस्थान में एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने का विश्वास जाहिर करते हुए भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने बुधवार को कांग्रेस पर चुनाव प्रचार के दौरान जाति और धर्म की राजनीति को आगे बढ़ाने का आरोप लगाया। बुलंदशहर में हिंसा की घटना संबंधी एक सवाल पर शाह ने कहा, यह दुर्भाग्यपूर्ण घटना है और मुख्यमंत्री ने जांच के लिए एसआईटी गठित की है। मैं नहीं मानता कि इस प्रकार की दुर्भाग्यपूर्ण घटना को राजनीतिक रंग देना उचित है। कांग्रेस के आरोप पर उन्होंने कहा कि एसआईटी की रिपोर्ट के बाद दूध का दूध पानी का पानी हो जाएगा। विधानसभा चुनाव के प्रचार के अंतिम दिन यहां पार्टी मुख्यालय में संवाददाताओं से बातचीत करते हुए शाह ने कहा, हम एक रचनात्मक, एक सकारात्मक एजेंडे को पूरे चुनाव में लेकर गए हैं और मुझे पूरा भरोसा है कि हम राजस्थान में निश्चित रूप से पूर्ण बहुमत की सरकार बनाने जा रहे हैं।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, निश्चित रूप से 2019 में अब से बड़े बहुमत के साथ PM मोदी के नेतृत्व में भारतीय जनता पार्टी की सरकार भारत में बनेगी, यह निश्चित है। उन्होंने कहा, कांग्रेस ने अपने परंपरागत तीन मुद्दों पर चुनाव लड़ने का प्रयास किया। जातिवाद के मुद्दों को उभारने का प्रयास किया, परिवारवाद के आधार पर चुनाव लड़ने का प्रयास किया और तुष्टिकरण की नीति को भी आगे बढ़ाने का प्रयास किया। वहीं हमने राजस्थान का भविष्य, राजस्थान का विकास और गरीबों का कल्याण। इन तीन मुद्दों पर विकास को आगे ले जाने का प्रयास किया है। मुझे लगता है कि हमारे मुद्दों को उसी जनता ने स्वीकारा है जो कांग्रेस के तीनों मुद्दों को नकार चुकी है।

अमित शाह ने कहा, हमने पूरे प्रचार में ‘विकास की राजनीति’ को मुख्य मुद्दा बनाया है और उसको लोगों की ओर से अच्छी प्रतिक्रिया मिली। कांग्रेस की स्थिति नेता तय कर पाने तक भी नहीं पहुंची है। हर जिले में एक-एक व्यक्ति अपने आप को मुख्यमंत्री बताकर जनता के वोट बटोरने का काम कर रहा है। लेकिन जनता जानती है कि कांग्रेस में न नेता है, न नीति है न सिद्धांत है। कांग्रेस ने यहां जाति व धर्म की राजनीति को भी आगे बढाया।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, कांग्रेस पार्टी पहले यह स्पष्ट करे कि उसके नेता नवजोत सिंह सिद्धू पाकिस्तान गए और वहां के सेनाध्यक्ष को गले लगाया। वह राहुल गांधी की सूचना पर गए थे या नहीं। सिद्धू ने स्पष्ट कहा है कि मेरा कप्तान राहुल गांधी है और मेरे कप्तान की सूचना पर मैं पाकिस्तान गया।’

Share.

About Author

Leave A Reply