केंद्र से नाराज सुप्रीम कोर्ट के जज सीजेआई से मिले

0

सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों ने चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा से आज मुलाकात की और जस्टिस के एम जोसेफ की वरिष्ठता को कम करने के केंद्र के फैसले पर अपना विरोध जताया। न्यायमूर्ति जोसेफ को दो अन्य न्यायाधीशों के साथ कल सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश पद की शपथ लेनी है।

सुप्रीम कोर्ट के उच्च पदस्थ सूत्रों ने बताया कि न्यायमूर्ति मदन बी लोकुर और न्यायमूर्ति कुरियन जोसफ समेत न्यायाधीशों ने आज का कामकाज शुरू होने से पहले न्यायाधीशों के लाउन्ज में प्रधान न्यायाधीश से मुलाकात की। न्यायमूर्ति लोकुर और न्यायमूर्ति जोसफ पांच न्यायाधीशों वाले शीर्ष न्यायालय के कॉलेजियम का हिस्सा हैं।

प्रधान न्यायाधीश के बाद उच्चतम न्यायालय के वरिष्ठतम न्यायाधीश न्यायमूर्ति रंजन गोगोई मौजूद नहीं थे, क्योंकि वह आज छुट्टी पर हैं। सूत्रों ने बताया कि प्रधान न्यायाधीश ने न्यायाधीशों को आश्वस्त किया कि वह न्यायमूर्ति गोगोई के साथ विचार-विमर्श करेंगे और इस मुद्दे को केंद्र के समक्ष उठाएंगे।

केंद्र ने शुक्रवार को शीर्ष अदालत में तीन न्यायाधीशों की नियुक्ति के लिये अधिसूचना जारी की थी। अधिसूचना में वरिष्ठता क्रम में न्यायमूर्ति जोसफ को तीसरे स्थान पर रखा गया था। अधिसूचना में मद्रास उच्च न्यायालय की मुख्य न्यायाधीश इंदिरा बनर्जी का नाम पहले स्थान पर था जबकि उड़ीसा उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश विनीत सरन का नाम दूसरे स्थान पर था।

बताते चलें कि न्यायमूर्ति जोसेफ की शीर्ष अदालत में पदोन्नति को लेकर सीजेआई नीत कालेजियम और केन्द्र के बीच टकराव रह चुका है। उत्तराखंड उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश के रूप में न्यायमूर्ति जोसेफ ने उस पीठ का नेतृत्व किया था जिसने 2016 में राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने के फैसले को निरस्त कर दिया था। उत्तराखंड में उस समय कांग्रेस की सरकार थी।

Share.

About Author

Leave A Reply