अलर्ट पर SPG, CPG और CAT नक्सली चिट्ठी के बाद पीएम मोदी को रोड शो ना करने की सलाह

0

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नक्सलियों द्वारा पूर्व पीएम राजीव गांधी की तरह हत्या करने की साजिश का खुलासा होने के बाद सुरक्षा एजेंसियों में हड़कंप मच गया है। पुणे पुलिस के खुलासे के बाद प्रधानमंत्री की सुरक्षा की जिम्मेदारी संभालने वाली सुरक्षा एजेंसी एसपीजी (स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप) ने पीएम मोदी की सुरक्षा में लगे अपने जवानों को अलर्ट कर दिया है। इसके साथ ही एसपीजी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को रोड शो ना करने की सलाह दी है। आपको बता दें कि पुणे पुलिस को भीमा कोरेगांव हिंसा मामले में गिरफ्तार एक आरोपी के पास से एक ऐसी चिट्ठी मिली है, जिसमें रोड शो के दौरान पीएम मोदी पर हमले का जिक्र है।

एनडीटीवी की खबर के मुताबिक इस साजिश का पर्दाफाश होने के बाद प्रधानमंत्री की सुरक्षा में लगी एजेंसियां सतर्क हो गई हैं। एसपीजी के अलावा पीएम नरेंद्र मोदी की अंदरूनी सुरक्षा का जिम्मा संभालने वाले सीपीजी (क्लोज्ड प्रोटेक्शन ग्रुप) के जवानों को हर स्थिति से निपटने के लिए अलर्ट कर दिया गया है। सीपीजी के जवान हमेशा पीएम मोदी के आस-पास ही रहते हैं और ये किसी भी हमलावर या आंतकवादी को चंद सेकंड के अंदर नेस्तनाबूत करने की क्षमता रखते हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सुरक्षा को बेहद गंभीरता से लेते हुए एसपीजी की ‘कैट’ (क्विक रिस्पॉन्स टीम) को भी अलर्ट कर दिया गया है। कैट वो सुरक्षा टीम है, जो प्रधानमंत्री पर किसी भी तरह के हमले की स्थिति में तुरंत रिस्पॉन्स करती है। कैट के जवानों हर हालात से निपटने के लिए काफी कड़ी ट्रेनिंग दी जाती है। इन जवानों के पास सबसे आधुनिक हथियार होते हैं।

पुणे पुलिस ने बताया कि भीमा कोरेगांव में हुई हिंसा के मामले में रोना जैकब विल्सन, सुधीर ढावले, सुरेंद्र गाडलिंग समेत पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया था। पुलिस का कहना है कि पीएम नरेंद्र मोदी की हत्या की साजिश वाली चिट्ठी विल्सन के दिल्ली में मुनिरका स्थित फ्लैट से बरामद हुई है। इस चिट्ठी में लिखा है, ‘मोदी के नेतृत्व में हिंदू फासीवाद आदिवासियों को बर्बाद कर रहा है। भाजपा का एक के बाद एक राज्यों में सरकार बनाना जारी रहा, तो बड़ी परेशानी खड़ी हो जाएगी। कुछ कॉमरेड ने मोदी राज को खत्म करने के लिए कुछ मजबूत कदम सुझाए हैं। हम सभी राजीव गांधी जैसे हत्याकांड पर विचार कर रहे हैं। हो सकता है हम नाकामयाब हो जाएं, लेकिन हमें लगता है कि पार्टी हमारे प्रस्ताव पर विचार करे।’

Share.

About Author

Leave A Reply