जाट आंदोलन का आज दूसरा दिन ,पहले दिन धरना-प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहने से सरकार और प्रशासन को थोड़ी राहत मिली !

0

jatt reservationनई दिल्ली: हरियाणा में आरक्षण की मांग को लेकर जाट आंदोलन का आज दूसरा दिन है। राज्य के 15 जिलों के 15 गांवों में जाट समुदाय के लोग धरने पर बैठे हैं। पहले दिन धरना-प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहने के बाद सरकार और प्रशासन को थोड़ी राहत मिली है।

गांवों में ही कर रहे हैं प्रदर्शन
इस बार जाट आरक्षण संघर्ष समिति ने शहरों की बजाय गांवों में ही धरना प्रदर्शन का फ़ैसला लिया है। साथ ही रेल और सड़क मार्ग पर धरना नहीं देने का आश्वासन दिया गया है। यह धरना प्रदर्शन 15 दिन तक चलेगा।

मांगें नहीं मानी तो बड़े आंदोलन की धमकी
इस बीच राज्य सरकार उनकी मांगें नहीं मानती है तो फिर बड़े आंदोलन की चेतावनी दी गई है। राज्य के आठ ज़िलों झज्जर, सोनीपत, रोहतक, पानीपत, हिसार, जींद, फ़तेहाबाद और कैथल कुल आठ जिलों में धारा 144 लागू है।

अर्धसैनिक बलों की 55 टुकड़ियां तैनात
हरियाणा पुलिस के अलावा अर्धसैनिक बलों की 55 टुकड़ियां तैनात की गई हैं। रोहतक और सोनीपत में मोबाइल इंटरनेट सेवा और एक साथ कई एसएमएस भेजने की सुविधा पर पाबंदी है। राज्य से गुज़रने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग और रेल लाइन के दोनों तरफ़ एक किलोमीटर तक धारा 144 लागू है।

दिल्ली में आज एहतियातन धारा 144 लगाई जाएगी
हरियाणा में जाट आंदोलन को देखते हुए हरियाणा से लगनेवाले दिल्ली के सीमावर्ती इलाक़ों में एहतियातन आज धारा 144 लगाई जाएगी। दक्षिण पश्चिमी दिल्ली, उत्तर पश्चिमी दिल्ली, उत्तर पूर्वी दिल्ली की कई कॉलोनियां हरियाणा की सीमा से सटी हुई हैं, इन सभी इलाक़ों में आज से धारा 144 लागू होगी। दिल्ली पुलिस ने एक बयान जारी कर इसकी जानकारी दी। फरवरी में जाट आंदोलन के वक़्त दिल्ली के मुखर्जी नगर और नज़फ़गढ़ इलाक़े में भी प्रदर्शन हुआ था, जिसके मद्देनज़र दिल्ली पुलिस ने इस बार यह फ़ैसला लिया है।

Share.

About Author

Comments are closed.