अब प्ले स्टोर पर राष्ट्रीय उजाला

जाट आंदोलनकारी कर रहे हैं संसद भवन घेराव की तैयारी ।

0

/>चंडीगढ़। हरियाणा में आरक्षण सहित छह मांगों को लेकर अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे जाट समुदाय का धरना 49वें दिन भी जारी है। शनिवार को सभी धरना स्थलों पर पूर्व कार्यक्रम के अनुसार धरना चल रहा है। शुक्रवार को सरकार के साथ चौथे दौर की वार्ता बेनतीजा रहने पर जाट नेताओं ने 20 मार्च के संसद भवन घेराव की तैयारियां तेज कर दी है। वाहनों के पंजीकरण के साथ ही प्रचार टोलियां का सम्पर्क अभियान जारी है। जाट नेता ज्यादा से ज्यादा संख्या में लोगों को प्रदर्शन में शामिल करना चाहते हैं। जिससे की सरकार को दबाव में लाया जा सके। दूसरी तरफ, प्रशासन भी आंदोलनकारियों की तैयारियों को देखते हुए सतर्क है। प्रशासन ने सुरक्षा व्यवस्था को बढाने के साथ ही जिलों में धारा-144 लागू करने का विकल्प खुला रखा है। प्रशासन द्वारा खुफिया विभाग के माध्यम से आंदोलन से जुड़ी प्रत्येक गतिविधि पर लगातार नजर रखी जा रही है। गौरतलब है कि हरियाणा में 29 जनवरी से जाट समुदाय के लोग अनिश्चिकालीन धरने पर बैठे हुए हैं। जाट समुदाय की मांगोें पर विचार करने के लिए सरकार व जाट नेताओं के बीच तीन चक्र की वार्ता पानीपत में हो चुकी है। तीसरे दौर की वार्ता का नेतृत्व सरकार की तरफ से शिक्षामंत्री प्रोेफेसर रामविलास शर्मा ने किया था। वहीं जाट नेताओं का नेतृत्व अखिल भारतीय संघर्ष समिति के अध्यक्ष यशपाल मलिक कर रहे थे। दोनों की पक्षों में सभी मुद्दों पर सहमति बन गयी थी। शुक्रवार को नई दिल्ली में होने वाली चौथे दौर की वार्ता में दोनों ही पक्षों की संयुक्त पत्रकारवार्ता में इसकी घोषणा की जानी थी। लेकिन शुक्रवार को दिन भर चले नाटकीय घटनाक्रम में दोनों ही पक्षों द्वारा अलग-अलग पत्रकारवार्ता कर एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप लगाया गया। जिसके बाद जाट नेताओं ने 20 मार्च के प्रस्तावित संसद घेराव कार्यक्रम को जारी रखने का फैसला किया।

Share.

About Author

Comments are closed.