अब प्ले स्टोर पर राष्ट्रीय उजाला

जहां से परिवर्तन यात्रा शुरू की, वहीं सीट हारी बीजेपी

0

लखनऊ : यूपी में प्रचंड बहुमत हासिल करने वाली बीजेपी सहारनपुर की बेहट सीट नहीं जीत पाई। बीजेपी के लिए यह सीट इसलिए भी महत्वपूर्ण थी क्योंकि पार्टी ने अपनी परिवर्तन यात्रा की शुरूआत यहीं से की थी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सहारनपुर में दो रैलियां भी की थीं। वहीं, यूपी की 403 सीटों की गिनती सहारनपुर की बेहट सीट से शुरू होती है। इस सीट का क्रम एक है। इसी तरह विधानसभा संख्या चार यानी सहारनपुर सीट पर भी बीजेपी को कांग्रेस से ही हार का सामना करना पड़ा। यहां लंबे वक्त से कांग्रेस को पसंद किया जाता रहा है। 2014 में हुए लोकसभा चुनाव में भी यूपी में बीजेपी की आंधी थी, लेकिन यह आंधी इन विधानसभा सीटों पर बेअसर साबित हुई थी। 2014 में हुए चुनाव में बेहट पर कांग्रेस प्रत्याशी इमरान मसूद को 89 हजार 920 वोट मिले थे, जबकि बीजेपी प्रत्याशी राघव लखनपाल को 79 हजार 365। सहारनपुर में कांग्रेस प्रत्याशी को 84 हजार 823 और बीजेपी प्रत्याशी को 68 हजार 623 वोट मिले थे।
2017 में हुए विधानसभा चुनाव में भी बीजेपी बेहट और सहारनपुर देहात सीट पर बेहतर प्रदर्शन नहीं कर सकी। इन दोनों ही सीटों पर कांग्रेस के प्रत्याशी जीते हैं। बीजेपी के लिए यह एक बड़ा झटका है। बीजेपी ने अपनी परिवर्तन यात्रा की शुरूआत बेहट सीट से की थी। सहारनपुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दो रैलियां भी की थी। राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह भी दो बार सहारनपुर आए थे। पार्टी के तमाम बड़े नेताओं ने भी यहां का दौरा किया था। बावजूद इसके यहां के मतदाताओं को बीजेपी के लिए वोट देने के लिए नहीं मना पाए।
कोटेशन
2014 में हुए चुनाव में बेहट पर कांग्रेस प्रत्याशी इमरान मसूद को 89 हजार 920 वोट मिले थे, जबकि बीजेपी प्रत्याशी राघव लखनपाल को 79 हजार 365। सहारनपुर में कांग्रेस प्रत्याशी को 84 हजार 823 और बीजेपी प्रत्याशी को 68 हजार 623 वोट मिले थे।

Share.

About Author

Comments are closed.