जम्मू और कश्मीर में चुनाव स्थगित होने पर बवाल

0

श्रीनगर : जम्मू और कश्मीर की अनंतनाग लोकसभा सीट पर 12 अप्रैल को होने वाले उपचुनाव के रद्द होने पर नैशनल कॉन्फ्रेंस और कांग्रेस के कार्यकतार्ओं ने डीसी आॅफिस का घेराव किया। इस दौरान इंडियन डिमॉक्रेसी मुदार्बाद के नारे भी लगे। कार्यकतार्ओं ने आॅफिस का घेराव कर जमकर हंगामा काटा। नैशनल कॉन्फ्रेंस और कांग्रेस के नेताओं ने कहा कि चुनाव अपने नियत तारीख को ही होने चाहिए। इससे पहले सोमवार को जम्मू-कश्मीर के मुख्य चुनाव आयुक्त ने सभी पार्टियों की एक बैठक बुलाई थी। इस बैठक में चुनाव को स्थगति करने पर चर्चा हुई थी। बैठक में पीडीपी, बीजेपी, कांग्रेस और नैशनल कॉन्फ्रेंस के प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया था। पीडीपी के वहीद-उर-रहमान ने चुनावों को स्थगित करने पर सहमित जताते हुए कहा था कि जहां चुनाव अधिकारी जरूरी समझें वहां फिर से चुनाव कराए जा सकते हैं, वहीं नैशनल कॉन्फ्रेंस के नेता अकबर लोन और कांग्रेस के उस्मान माजिद ने चुनाव स्थगित करने पर सवाल खड़े किए। अनंतनाग में 12 अप्रैल को होने वाले उपचुनाव को चुनाव आयोग ने सोमवार को टाल दिया था। इससे पहले रविवार को श्रीनगर में हुए उपचुनाव में बड़े पैमाने पर हिंसा हुई थी, जिसके चलते वोटिंग भी सिर्फ 6.5% ही हुई थी। सोमवार को होम मिनिस्ट्री ने कश्मीर में बड़े पैमाने पर हुई हिंसा के बाद इसका ठीकरा आयोग पर फोड़ा था। जम्मू-कश्मीर की राज्य सरकार ने भी अनंतनाग लोकसभा उपचुनाव को टालने की मांग की थी। सत्ता में काबिज पीडीपी ने निर्वाचन आयोग से अनंतनाग में होने वाले उपचुनाव को स्थगित करने का आग्रह किया था। होम मिनिस्ट्री के सीनियर अधिकारियों के मुताबिक उसकी ओर से आयोग को पहले ही सलाह दी गई थी कि वहां चुनाव के लिए उचित माहौल नहीं है। अनंतनाग में अब 25 मई को मतदान होगा। इससे पहले ऐसी खबरें थीं कि जम्मू-कश्मीर में 2 सीट पर उपचुनाव की तारीख को लेकर होम मिनिस्ट्री और चुनाव आयोग के बीच गंभीर मतभेद थे।

Share.

About Author

Comments are closed.