क्या आप जानते हैं सावन के दूसरी सोमवारी का महत्व।

0

सावन के दूसरे सोमवार को भी शिवालयों में बाबा भोले के भक्तों की टोली जल अर्पण के लिए उमड़ रही है। रात से मंदिरों के बाहर भक्त लाइन में खड़े हैं। बाबा भोले को सावन और भक्तों से बड़ा लगाव है। भक्त भी बाबा पर न्योछावर होने के लिए उतावले हैं। रांची के पहाड़ी मंदिर सहित प्रमुख शिवालयों में सोमवारी के लिए खास तैयारियां की गई हैं। सजावट के साथ-साथ भोले बाबा के जयकारे और गीत रविवार की रात से ही गूंजने लगे।
दूसरी सोमवारी का महत्व
सावन का आज दूसरा सोमवार है। इस दिन अष्टमी तिथि, अश्विनी नक्षत्र और धृति योग है। स्वामी चंद्रमा राज्य स्थान में है, इस दिन का व्रत राजकीय कार्यो में सफलता दिलाएगा। दूसरे सोमवार को उपवास रख शिव की आराधना करने वालों को काफी सफलता मिलेगी। उपवास के बाद शिवपुराण, शिवलीलामृत, शिव कवच, शिव चालीसा, शिव पंचाक्षर मंत्र, शिव पंचाक्षर स्तोत्र, महामृत्युंजय मंत्र का पाठ और जाप करने से श्रेष्ठ फल प्राप्त होगा।

Share.

About Author

Comments are closed.