उत्तराखंड में समय से तीन दिन पहले पहुंचा मानसून

0

mansoonउत्तराखंड में मानसून पहुंच गया है। मौसम विभाग ने इसकी आधिकारिक घोषणा कर दी है। पिछले साल की अपेक्षा तीन दिन पहले पहुंचा मानसून इस बार सामान्य रहेगा।

मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह ने बताया कि प्रदेश में मानसून इस बार सही समय पर पहुंचा है। हालांकि इसने अभी हरिद्वार को नहीं छुआ है। जबकि गढ़वाल और कुमाऊं के जिलों में अभी छिटपुट बारिश ही हुई है। लेकिन अगले कुछ दिन पूरे राज्य में अच्छी बारिश होने की संभावना है। इस बार प्रदेश में मानसून सामान्य रहेगा। मानसून की पहली बारिश होते ही तापमान में भी आंशिक गिरावट दर्ज की गई है। हालांकि उमस में भी इजाफा हुआ है। मंगलवार को मानसूनी बारिश से देहरादून समेत प्रदेश के 12 जिले बारिश से तरबतर हो गए। मानसून के जल्द हरिद्वार में भी दस्तक देने की उम्मीद है।

दून में बारिश ने गिराया तापमान: मंगलवार सुबह दून में हुई तेज बारिश से अधिकतम तापमान में एक डिग्री की कमी आ गई। सोमवार को दून का अधिकतम तापमान 31 डिग्री था।

भारी बारिश का अलर्ट जारी
मौसम विभाग ने सात जिलों के लिए भारी बारिश की चेतावनी दी है। अन्य जिलों में हल्की बारिश होगी। मौसम विज्ञान केंद्र ने कहा है कि आने वाले 24 घंटों में यूएस नगर, चंपावत, पिथौरागढ़, नैनीताल, पौड़ी, हरिद्वार और देहरादून में तेज बारिश की संभावना है। मानसूनी बारिश के कारण तापमान में कमी आयी है। लेकिन उमस बढ़ गई है।

मानसून ने आते ही दिखाए तेवर
देहरादून/हल्द्वानी। मानसून ने आते ही राज्य में तेवर दिखाने शुरू कर दिए हैं। मंगलवार को भारी बारिश से चमोली की 18 सड़कें बंद हो गई। पिंडर में पानी बढ़ने से दो अस्थाई पुल बह गए। जिससे कई गांवों का देवाल से संपर्क कट गया। जोशीमठ के खनोटी में एक दुकान में मलबा घुस गया। उधर, ऊखीमठ के बरसाल गांव में भी बारिश से भारी नुकसान हुआ है।

पिथौरागढ़ जिले में टनकपुर-तवाघाट नेशनल हाईवे 19 घंटे बंद रहा। द्वाराहाट में एक पहाड़ी में फंसे चार लोगों को एनडीआरएफ और स्थानीय पुलिस ने सुरक्षित निकाला। बागेश्वर जिले में धरमघर-बालीघाट मोटर मार्ग चिड़ाग तथा दोया के पास मलबा आने से बंद हो गया है। बागेश्वर में ही भूस्खलन की चपेट में आने से एक मजदूर की मौत हो गई।

Share.

About Author

Comments are closed.