आइये जानते हैं सोनाक्षी सिन्हा के कुछ पर्सनल बातें, उन्ही की जुबानी |

0

बंटी सचेदवा के साथ कभी ब्रेकअप तो कभी पैचअप की खबरों से सुर्खियों में रहने वाली सोनाक्षी सिन्हा का कहना है कि न सिर्फ लोगों को, बल्कि उनके दोस्तों को भी उनके अफेयर से जुड़ी जानकारियां जुटाने में मजा आता है।
आपकी फिल्म ‘इत्तेफाक’ रिलीज हो गई है। इसे लेकर आपको कैसी प्रतिक्रिया मिल रही है ?
‘इत्तेफाक’ को सभी अच्छा रिस्पॉन्स दे रहे हैं चाहे फिर वह मेरे फैंस हों या फिर समीक्षक। हर वर्ग के लोगों को हमारी यह फिल्म पसंद आ रही है और सभी मुझे टैग करके फिल्म का रिव्यू दे रहे हैं। सबसे खास बात यह है कि अभी तक किसी ने भी इसके सस्पेंस को खराब नहीं कहा है।
एक तरफ आप फिल्म का प्रमोशन कर रही हैं और दूसरी ओर सिंगिंग रियलिटी शो ‘ओम शांति ओम’ की शूटिंग भी कर रही हैं। समय कैसे निकाल रही हैं ?
दोनों ही चीजें मेरे लिए जरूरी हैं। फिल्म का प्रमोशन करना मेरी जिम्मेदारी है और ‘ओम शांति ओम’ से मैं दिल से जुड़ी हूं। इस शो के सेट पर मुझे एक अजीब सी शांति मिलती है। मुझे खुशी है कि मैं देश के एक अनोखे रियलिटी शो का हिस्सा हूं। इस शो को लोगों काफी पसंद कर रहे हैं और मुझे खुद इस तरह के कार्यक्रम काफी पसंद हैं। यहां पर गाना गाने वाले सिंगर एक अलग ही लेवल पर गाते हैं। मैं आपको बता नहीं सकती कि उन्हें लाइव सुनकर कितना मजा आता है।
पिछले काफी दिनों से आपकी निजी जिंदगी के बारे में काफी खबरें चल रही हैं। क्या कभी आपके बारे में पढ़कर आपके दोस्त आपसे पूछते हैं कि क्या वाकई आपका कुछ चल रहा है ?
हां, न जानें क्यों मेरे अफेयर के बारे में हर किसी को जानना है। मेरे दोस्त मुझसे जुड़ी जब भी कोई गॉसिप पढ़ते हैं तो मुझसे पूछने लगते हैं कि बता न सोना क्या सच में तेरा चक्कर चल रहा है। उन्हें मेरे अलावा दूसरे कलाकारों से जुड़ी खबरें जानने में भी दिलचस्पी रहती है। वे मुझसे पूछते हैं कि उस हीरो या हीरोइन की लाइफ में कौन है। क्या फलानी खबर सच है। जबकि मैं आपको सच कहूं तो मुझे बिल्कुल भी दूसरों के बारे में गॉसिप करने का शौक नहीं है। मेरे दोस्तों को लगता है कि मैं जान-बूझकर उनसे कुछ छिपा रही हूं और बताना नहीं चाहती लेकिन न तो मेरे पास उन्हें अपने बारे में बताने के लिए कुछ होता है और न ही दूसरों के बारे में।
आपके बारे में चल रही अफवाहों पर आपके परिवार की क्या प्रतिक्रिया होती है?
पहले मेरी फैमिली को फर्क पड़ता था। मेरे बारे में अनाप-शनाप खबरें पढ़कर उन्हें काफी बुरा लगता था। फिर मुझे लगता था कि मैंने भला किसी का क्या बिगाड़ा है, जो सब हाथ धोकर मेरे पीछे पड़ गए हैं लेकिन समय के साथ अब न तो मेरे परिवारवालों को कोई फर्क पड़ता है और न ही मुझे। अब मैं बस अपने काम पर ध्यान देती हूं और फिलहाल तो मेरा सारा फोकस ‘ओम शांति ओम’ के फिनाले पर है।

Share.

About Author

Leave A Reply